Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

जैसे-जैसे तकनीक का विकास हो रहा है, वैसे-वैसे दुनिया में बहुत से बदलाव हो रहे हैं. आधुनिकता के इस दौर में लोगों ने तकनीक को अपने फायदे के लिए अलग-अलग तरह से इस्तेमाल किया है. किसी ने सही इस्तेमाल किया तो किसी ने उसका गलत उपयोग किया. हाल ही में गलत काम का उदाहरण अमेरिका की एक यूनिवर्सिटी में देखने को मिला जब एक शख्स ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से एक चैट बॉट बना लिया और उसकी मदद से चीटिंग (pupil use chatbot for dishonest) कर डाली!

इस खबर के बारे में विस्तार से बताने से पहले आपको बता दें कि चैट बॉट (what’s chatbot) क्या होता है. चैट का अर्थ होता है बातचीत करना और रोबोट का शॉर्टफॉर्म बॉट है. चैटबॉट ऐसी तकनीक है जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artifical Intelligence chatbot) की मदद से चलने वाला एक कंप्यूटर प्रोग्राम है जिसके जरिए इंसान कोई भी सवाल पूछे तो वो जवाब देता है. इसका सबसे अच्छा उदाहरण है अमेजन का एलेक्सा जिससे आप बात करने पर सवाल का जवाब जान सकते हैं.

छात्र ने इस्तेमाल किया आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का प्रोयग
चलिए अब बढ़ते हैं इस खबर पर. ऑडिटी सेंट्रल न्यूज वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार साउथ कैरोलाइना के फर्मैन यूनिवर्सिटी के दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर डैरेन हिक ने कहा कि उनके एक छात्र ने चैट जीपीटी नाम का एडवांस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से चलने वाले चैट बॉट का इस्तेमाल किया जिसकी मदद से वो उसने अपने दर्शनशास्त्र के निबंध को लिखा. चैट जीपीटी एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस द्वारा संचालित चैटबॉट है जिसे हाल ही में ओपन एआई ने रिलीज किया और आम जनता के लिए लॉन्च भी किया था.

प्रोफेसर के उड़ गए होश
प्रोफेसर ने बताया कि उन्हें इस बात का पता तब लगा जब उन्होंने छात्र के निबंध को चेक किया. उन्होंने कहा कि निबंध में कुछ भी गलत नहीं था पर लिखने का अंदाज आम छात्रों की तरह नहीं था. ऐसे शब्दों का प्रयोग किया गया था जो आमतौर पर छात्र नहीं प्रयोग करते हैं. प्रोफेसर ने कहा कि उन्हें इस बात से हैरानी हुई और डर भी लगा कि चैटबॉट क्या-क्या कर सकता है. उन्होंने कहा कि छात्रा द्वारा लिखे गए जवाब में गलत कुछ नहीं था, पर जो शब्द इस्तेमाल किए गए थे, वो पुराने और शुद्ध अंग्रेजी के थे. ऐसे शब्द जो आमतौर पर अब लोग प्रयोग नहीं करते हैं. उन्होंने जांचने के लिए एक सॉफ्टवेयर का प्रोयग किया जो ये बता देता है कि कोई भी कंटेंट आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से बनाया गया है या नहीं, और छात्र का निबंध मैच कर गया.

Tags: Ajab Gajab news, Trending news, Weird news



Source link