कैंडी खाने के 61 लाख रुपये ऑफर कर रही है कंपनी ! मीठे के शौकीनों के लिए है मौका


Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

Eat Candy and Earn 61 Lakh Rupees : हर कोई अपने लिए एक ऐसी नौकरी चाहता है, जो उसके मन की हो. अगर यही नौकरी उस पसंदीदा चीज़ के बीच रहने की हो, जिसके आप सपने देख रहे हों तो मुंह मांगी मुराद पूरी हो सकती है. ऐसी ही एक जॉब ऑफर की जा रही है कनाडा की एक कंपनी की ओर से, जो मीठे के शौकीन लोगों के लिए ड्रीम जॉब होगी. कंपनी अपने कर्मचारी को साल भर कैंडी खाने के बदले 61 लाख की सैलरी देगी.

जिन्हें कैंडीज़ और चॉकलेट का शौक होता है, वो अक्सर बैठे-बैठे इन चीज़ों को खाने की कल्पना करते रहते हैं. ऐसे लोगों के लिए कैंडी फनहाउस नाम की ऑनलाइन रीटेल कंपनी ने नौकरी निकाली है. कैंडी फनहाउस (Candy Funhouse) नाम की एक कंपनी अपने यहां ऐसा कर्मचारी रखना चाहती है, जिसे कैंडीज़ पसंद हों. कर्मचारी को कैंडी खाने के बदले पैसे दिए जाएंगे.

कैंडी खाओ और मोटी सैलरी कमाओ
कैंडी फनहाउस (Candy Funhouse) की ओर से ऑफर की जा रही इस नौकरी का नाम है – चीफ कैंडी ऑफिसर. इस नौकरी के साथ जो-जो सुविधाएं मिल रही हैं, उसे सुनकर कैंडी के शौकीन लोग अपनी मौजूदा नौकरी से तुरंत रिज़ाइन कर देंगे. ऑनलाइन रिटेलर कैंडी फनहाउस चॉकलेट बार से लेकर कैंडी तक बेचता है. फिलहाल उसे एक ऐसे शख्स की तलाश है, जो उनकी कैंडीज़ को टेस्ट करके सही रिव्यू दे सके. इस छोटे से काम के लिए कंपनी अपने कर्मचारी को $100,000 यानि भारती मुद्रा में 61.14 लाख रुपये/सालाना वेतन देने को तैयार है. दिलचस्प बात तो ये है कि इसके लिए कर्मचारी को दफ्तर भी नहीं जाना है, ये काम घर से ही होगा.

अजब काम की गजब शर्तें
अब आप इस काम की योग्यता के बारे में सुन लीजिए, जो सबसे मज़ेदार है. इस पोज़िशन के लिए कोई 18 साल के वयस्क की ज़रूरत नहीं है, बल्कि 5 साल का बच्चा भी इस काम के लिए एप्लाई कर सकता है. हां, माता-पिता से अनुमति मिलनी ज़रूरी है. कैंडी फनहाउस के सीईओ जमील हेजाज़ी के मुताबिक उन्हें इस विज्ञापन का जबरदस्त रेस्पॉन्स मिल रहा है. उन्हें बहुत से लोगों के एप्लिकेशन मिल चुके हैं. सोशल मीडिया पर इसकी खूब चर्चा हो रही है और माता-पिता बच्चों के वीडियो भी शेयर कर रहे हैं. कंपनी के सोशल मीडिया अकाउंट्स भी जॉब एप्लिकेशन से भरे हुए हैं.

Tags: Ajab Gajab, Viral news, Weird news





Source link