Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

Railway Ticket Viral: अक्सर देखा गया है कि कई लोगों को पुरानी चीजों का कलेक्शन करना बहुत ही अच्छा लगता है. अगर इन कलेक्शन में कोई एंटीक चीज हो तो वे उसे और भी अच्छे से संभाल कर रखते हैं. दुनिया भर में सामाजिक-आर्थिक विकास में कई ऐतिहासिक बदलावों के साथ उतार-चढ़ाव आया है. कुछ लोग इन परिवर्तनों और अनुभवों को स्मृति चिन्ह के रूप में संजोते हैं. यह कागज का एक टुकड़ा या अमूल्य स्टोन भी हो सकता है. इसका ऐसा महत्व होता है, जिसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है. इन चीजों को लोग बहुत ही संभाल कर रखते हैं. ऐसा ही एक सोशल मीडिया पर आजादी के समय पाकिस्तान से भारत आने का एक पुराना टिकट वायरल हो रहा है.

1947 में नौ लोगों के लिए रावलपिंडी और अमृतसर के बीच का टिकट केवल 36 रुपये और 9 आना था. टिकट की तस्वीर “पाक रेल लवर्स” नामक एक फेसबुक पेज पर पोस्ट की गई थी. वायरल इस पोस्ट में लिखा गयाहै, “स्वतंत्रता के बाद 17-09-1947 को जारी किए गए ट्रेन टिकट की तस्वीर में 9 लोगों के लिए, रावलपिंडी से अमृतसर तक की यात्रा के लिए कीमत 36 रुपये और 9 आना है. शायद एक परिवार भारत आ गया. इस पोस्ट ने कई लोगों का ध्यान खींचा. कई लोगों ने इसे अतीत के अवशेषों के रूप में देखा और पोस्ट पर अपनी राय और सवालों के बौछार होने लगे.


एक शख्स ने कहा, ‘बहुत अच्छा कलेक्शन है अब एंटीक हो गया है.’ एक अन्य ने कहा, “यह कागज का टुकड़ा नहीं है. कृपया इसे लेमिनेट करवा लें. यह बिल्कुल सोने जैसा है. यहां तक कि मुझे अपने पिता द्वारा 1949 में खरीदी गई उषा स्विंग मशीन का एक कैश मेमो भी मिला.” एक तीसरे यूजर ने लिखा, “अच्छा है. मजबूत कार्बन कॉपी. 75 साल रखने के बाद भी फीका नहीं पड़ा. ओल्ड इज गोल्ड…”

इस बीच, कुछ ने बताया कि टिकट अपने समय के लिए बहुत महंगा था. एक यूजर ने कहा, “36 रुपये और 9 आना उस समय बहुत बड़ी रकम थी.” एक अन्य यूजर ने लिखा, “प्रति व्यक्ति 4 रुपये, यह बहुत महंगा था क्योंकि उस समय दैनिक मजदूरी एक दिन के लिए लगभग 15 पैसे थे, रावलपिंडी से अमृतसर (sic) कैसे जा सकते हैं.” वैसे, आपका इतिहास के इस टुकड़े के बारे में क्या राय है?

Tags: Railway, Railway News, Viral news, Weird news



Source link