Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

People Offer Cigarette on Mazar: हर मजहब में इंसान अपने-अपने भगवान पर भरोसा करते हैं और जब भी कोई समस्या होती है तो देवालयों या फिर आस्था स्थलों पर जाकर पूजा-पाठ करते हैं अगर मुस्लिम धर्म के लोगों की बात करें तो लोगों की आस्था मज़ारों पर खूब होती है. एक ऐसी ही परंपरा उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में देखने को मिलती है, जहां मज़ार पर लोग चादर की जगह सिगरेट चढ़ाकर आते हैं.

आपने अक्सर लोगों को मज़ार पर चादर चढ़ाते हुए देखा होगा लेकिन यहां आने वाले लोग हाथ में अगरबत्ती और फूल की चादर की जगह सिगरेट लेकर आते हैं. ये मज़ार भी कोई ऐसी-वैसी नहीं है बल्कि ये वेल्स बाबा की मज़ार है. यहां आने वाले लोग सालों से उनके दरबार में सिगरेट चढ़ाते आए हैं. दिलचस्प बात ये है कि सिर्फ लखनऊ नहीं बल्कि दूर-दूर से आने वाले श्रद्धालु यहां सिगरेट का पैकेट लेकर पहुंचते हैं.

आखिर क्यों यहां चढ़ती है सिगरेट?
इस मज़ार को वेल्स नाम के एक ईसाई कैप्टन फ्रेड्रिक वेल्स ने शुरू किया था. वो ब्रिटिश सेना में काम करते थे. मज़ार में वेल्स को सिगरेट वाले बाबा कहकर भी पुकारा जाता है और माना जाता है कि यहां आने से किसी भी व्यक्ति की मुराद पूरी हो जाती है और यहां हिंदू-मुस्लिम दोनों ही समुदाय के लोग आते हैं. कहा जाता है कि कैप्टन वेल्स सिगरेट और शराब के काफी शौकीन थे और यहां आने वाले लोग उन्हें खुश करने के लिए आज भी सिगरेट लेकर आते हैं. मान्यता है कि इससे कब्र में दफ़न वेल्स बाबा खुश हो जाते हैं.

वेल्स बाबा की मज़ार का फाइल फोटो.

प्रेमी जोड़ों के मसीहा हैं वेल्स बाबा
कई सालों से लोग इस परंपरा का पालन कर रहे हैं. इस मज़ार की खास बात ये भी है कि यहां प्रेमी-प्रेमिकाओं की मुंह मांगी मुराद पूरी होती है. यहां आने वाले ज्यादातर लोग भी प्रेमी जोड़े ही होते हैं. माना जाता है कि इससे उनका टूटा हुआ रिश्ता जुड़ जाता है और वे फिर से एक हो जाते हैं. चूंकि वेल्स बाबा कपल्स की ज़िंदगी में खुशहाली लाते हैं, ऐसे में वे उनके लिए सिगरेट का पैकेट तो ला ही सकते हैं. हालांकि ये बहुत अजीब है कि किसी मज़ार पर नशीली वस्तु चढ़े और लोगों की दिली इच्छा पूरी हो जाए.

Tags: Ajab Gajab, Viral news, Weird news



Source link