Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

Dragon Chicken: चिकन का नाम सुनते ही लोगों के मुंह में पानी आ जाता है. चिकन अगर डिलीशियस बना हो तो खाने का मजा ही कुछ और है. मुर्गे की कई प्रजातियां हैं, जो काफी कॉस्टली और लोग बड़े ही चाव से खाते हैं. ऐसे ही मुर्गे की एक प्रजाति के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे आपने अभी तक खाया भी नहीं होगा और इसका स्वाद भी काफी लजबाव है. इसकी कीमत भी काफी है.

वियतनाम के हनोई में ले वान हिएन ने “ड्रैगन मुर्गियों” के झुंड के बीच एक ऐसे मुर्गे को चुना, जो सबसे बेस्ट है. यह मुर्गे की एक ऐसी नस्ल है, जिसकी टांगें ईंट जितनी मोटी होती हैं और जिसकी कीमत 162644.30 रुपये (US$2,000) तक हो सकती है. दांग ताओ चिकन (Dong Tao Chicken) का पैर ढेलेदार होते हैं. इसका नाम उत्तरी वियतनाम के उस धर्म-संप्रदाय पर जहां इसे प्रतिबंधित माना जाता है. यह बहुत ही दुर्लभ माना जाता है. विशेष रूप से वियतनामी चंद्र नव वर्ष के दौरान धनी लोगों के बीच यह काफी लोकप्रिय है.

हिएन का बेशकीमती चार किलोग्राम का यह मुर्गा, जिसके विशाल पैर उसके शरीर के वजन का लगभग पांचवां हिस्सा होता है. इसे लगभग 150 अमेरिकी डॉलर में बेचा गया था. लेकिन विशेष रूप से बड़ी वंशावली मुर्गियों को इसके 10 गुना से अधिक मूल्य दिया गया है. कुछ को तो ब्यूटी कॉन्टेस्ट में भी शामिल किया जाता है. हिएन ने AFP को बताया कि पक्षी के स्वाद की वजह उसके मकई और चावल का आहार है और उसे घूमने की आजादी है.

हालांकि अंडे देने वाली मुर्गियों को बैटरी के पिंजरों में रखा जाता है, जिन पर दुनिया भर के कुछ देशों में प्रतिबंध लगा दिया गया है. मांस के लिए पैदा की गई मुर्गियों को एक छोटे से बगीचे में खुला छोड़ दिया जाता है. 15 से अधिक वर्षों से मुर्गियों का प्रजनन कर रहे हिएन ने कहा, “मुर्गियां जितना अधिक चलता है, उनकी मांसपेशियां उतनी ही मजबूत और बड़ी होती हैं.”

डोंग ताओ चिकन का मांस 10 किलो तक होता है. इसकी सख्त और चबाने वाली बनावट के लिए बेशकीमती है और इसमें फैट भी कम होता है. इसे कभी-कभी उबला हुआ परोसा जाता है, लेकिन तला हुआ, दम किया हुआ या लेमनग्रास के साथ भी परोसा जाता है. डोंग ताओ में एक नियमित ग्राहक बताते हैं कि डोंग ताओ चिकन का सबसे अच्छा हिस्सा उनके पैरों की त्वचा है. पैर जितने बड़े होते हैं, उतने ही स्वादिष्ट होते हैं.

Tags: Chicken, Viral news



Source link