Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

जीन्स का क्रेज बच्चों से लेकर बड़ों तक को होता है. मार्केट में रिप्ड, बैगी, लो वेस्ट, कैजुअल, स्किन फिट जैसी कई तरह की जीन्स आ चुकी हैं और लोग उनके जरिए अपने स्टाइल को बेहतर बनाने में लगे रहते हैं. जीन्स की कई कंपनीज भी मार्केट में उपलब्ध हैं मगर क्या आप जानते हैं कि जीन्स की सबसे पुरानी कंपनी कौन सी है? इसी कंपनी की 143 साल पुरानी (143 12 months previous Levi’s Jeans picture viral) एक जीन्स की फोटो वायरल हो रही है.

लिवाइस स्ट्रॉस एंड कंपनी की जीन्स (Levi’s Jeans previous picture) सबसे पुरानी और सबसे ज्यादा बिकने वाली जीन्स है. जीन्स बनाने वाली ये पहली कंपनी है जो आज तक मार्केट में अपने नाम और काम को बुलंदियों पर बनाए हुए है. इन दिनों इस कंपनी (Levi’s Company denims picture) की जीन्स की फोटो वायरल हो रही है. ट्विटर अकाउंट @_figensezgin पर हाल ही में ये फोटो शेयर की गई है. इसके कैप्शन में लिखा है- ये पुरानी लिवाइस जीन्स है जो 1879 में बनी थी.


लिवाइस कंपनी की जीन्स की फोटो वायरल
तस्वीर में नजर आ रही जीन्स भले ही पुरानी दिख रही हो मगर उसका रूप रंग ज्यादा नहीं बदला है, हालांकि वो थोड़ी गंदी जरूर लग रही है. उसके जेब और जेबों पर बने रिवेट भी लगे हुए हैं. अब जब लिवाइस जीन्स की बात हो रही है तो इस फोटो में आपको जीन्स की जेब के ऊपर बना एक छोटा जेब भी दिख रहा होगा. इसका इतिहास भी काफी पुराना है. साल 1853 में लिवाय स्ट्रॉस (Levi Strauss) नाम के एक व्यापारी ने लिवाइस स्ट्रॉस एंड कंपनी नाम से जीन्स की कंपनी शुरू की थी. ये नीली जीन्स बनाने वाली पहली कंपनी थी. साल 1873 में कंपनी ने जीन्स का पेटेंट जब दर्ज करवाया तो जेब के साथ एक छोटी पॉकेट (Levi Strauss Invented Small Pocket in Jeans) भी दी.

जीन्स में क्यों होती है छोटी जेब?
कंपनी की यही डिजाइन तब से फॉलो होने लगी. साल 1890 में कंपनी ने अपनी लॉट 501 जीन्स के साथ इस डिजाइन की शुरुआत की थी. तब पहली बार जीन्स में ये छोटी जेब नजर आई थी. अब अगर आपको इस जेब का असल काम जानना है तो इस लिंक पर क्लिक कर जान सकते हैं. ट्विटर पर पोस्ट की गई इस पुरानी जीन्स की तस्वीर पर लोगों ने कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है. एक शख्स ने बताया कि उसके पास लिवाइस की एक जीन्स थी जिसका कपड़ा काफी सख्त था.

Tags: Ajab Gajab news, Trending news, Weird news





Source link