Indian Economy Update 2023-“भारत की अर्थव्यवस्था का रहस्य: इसमें ऐसा कुछ है जो आपको सोचने पर मजबूर करेगा!”

Indian Economy Update 2023-“भारत की अर्थव्यवस्था का रहस्य: इसमें ऐसा कुछ है जो आपको सोचने पर मजबूर करेगा!”….


Indian Economy Update 2023: केंद्र सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) वी अनंत नागेश्वरन ने यह कहा है कि स्टार्टअप्स भारत को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।


Indian Economy Update 2023-"भारत की अर्थव्यवस्था का रहस्य: इसमें ऐसा कुछ है जो आपको सोचने पर मजबूर करेगा!",KALTAK NEWS.COM

Indian Economy Update:

भारत को इकोनॉमी के मोर्चे पर आज खुशखबरी मिली है। आज पहली बार भारत की इकोनॉमी ने 4 ट्रिलियन डॉलर के आंकड़े को पार कर लिया है। इस बीच केंद्र सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) वी अनंत नागेश्वरन ने कहा है कि स्टार्टअप्स भारत को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

केरल स्टार्टअप मिशन (केएसयूएम) की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, नागेश्वरन ने कहा कि बुनियादी ढांचे में सुधार और सरकार की मददगार नीतियों के कारण तिरुवनंतपुरम समेत टियर-2 और टियर-3 शहरों में स्टार्टअप्स तेजी से बढ़ रहे हैं।

सीईए ने केएसयूएम के कार्यक्रम ‘हडल ग्लोबल 2023’ के समापन दिवस पर अपने संबोधन में कहा कि भारत पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और कुछ वर्षों में तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर है।

उन्होंने कहा, ‘मैं कहूंगा कि सेवन-इन-सेवन का नारा चर्चा में है। इसका मतलब है सात वर्षों में 7,000 अरब अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था। यदि भारत अपने मौजूदा वृद्धि पथ को कायम रखता है तो वर्ष 2030 तक 7,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था का आकार संभव है। इसमें स्टार्टअप्स एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रहे हैं।

सीईए ने जोर दिया कि स्टार्टअप्स का यह महत्वपूर्ण हिस्सा नहीं सिर्फ भारत की आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देगा, बल्कि विश्व अर्थव्यवस्था में भी भारत को मजबूत बनाएगा। उन्होंने कहा, ‘स्टार्टअप्स से उम्मीद है कि हम विश्व की अर्थव्यवस्था में भी एक बड़ा खिलाड़ी बनेंगे।

केरल स्टार्टअप मिशन के कार्यक्रम के दौरान, उन्होंने टियर-2 और टियर-3 शहरों में स्थित स्टार्टअप्स के लिए स्थानीय समर्थन की भी बात की। उन्होंने यह भी जताया कि सरकार उदार नीतियों के माध्यम से युवा उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए कई पहलुओं पर काम कर रही है।

सीईए ने समापन भाषण में कहा, ‘भारतीय अर्थव्यवस्था का यह उदारीकरण और स्वदेशी नीतियों का उदाहरण है कि हम अपने लक्ष्यों की प्राप्ति की दिशा में अग्रणी हैं। स्टार्टअप्स ने हमें एक नए युग में पहुंचाया है जिसमें नए और नोवेल विचारों का मौसम है, जो आने वाले समय में हमारे राष्ट्र को और भी मजबूत बनाएगा। इस समर्थन और ऊर्जा के साथ, भारतीय स्टार्टअप्स का यह उत्कृष्ट योगदान दिखा रहा है जो अब वैश्विक मंच पर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

“मुख्य आर्थिक सलाहकार ने बताया कि पिछले दशक में भारत के स्टार्टअप स्केन में एक अद्वितीय परिवर्तन हुआ है। भारत अब विश्व स्तर पर तीसरे सबसे बड़े पैम्पर्स तंत्र के रूप में प्रमुख है। इस समय उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग (डीपीआईआईटी) ने 763 जिलों में 1.12 लाख से अधिक स्टार्टअप को मान्यता दी है।

यदि हम देश की शीर्ष इकोनॉमी की ओर देखें तो अमेरिका इसमें अग्रणी है। अमेरिका की इकोनॉमी 26.70 ट्रिलियन डॉलर के साथ पहले स्थान पर है। उसके बाद 19.24 ट्रिलियन डॉलर के साथ चीन आती है, जो दूसरे स्थान पर है। तीसरे स्थान पर 4.39 ट्रिलियन डॉलर के साथ जापान है। समाप्त होते हुए, पांचवे स्थान पर 4.28 ट्रिलियन डॉलर के साथ जर्मनी आती है। और फिर, पांचवे स्थान पर भारत का नाम आता है जिसकी अर्थव्यवस्था 4 ट्रिलियन डॉलर के साथ है।”



“इस समय के आलोक में, भारत के अर्थव्यवस्थानिक उत्थान में स्टार्टअप्स का योगदान अत्यंत महत्वपूर्ण साबित हो रहा है। सीईए ने बताया कि स्टार्टअप्स ने नए और नवाचारी विचारों के साथ भारतीय विपणि को गर्वित बनाया है और इसने दुनिया में भी अपनी मुकाबला क्षमता को साबित किया है।

इस प्रेरणादायक अवसर के साथ, भारतीय स्टार्टअप्स ने नहीं सिर्फ रोजगार सृजन किया है, बल्कि वे नए और उन्नत उत्पादों और सेवाओं की शृंगारी रूप से विकसित कर रहे हैं, जो भारत को अंतरराष्ट्रीय मंच पर एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बना रहे हैं।

इस पूरे प्रक्रिया में, सरकार का अथौरिटेटिव समर्थन और नीतिगत उत्साह भी स्टार्टअप समुदाय को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। उदाहरण के लिए, डीपीआईआईटी ने देशभर में स्टार्टअप्स को प्रोत्साहित करने के लिए 763 जिलों में 1.12 लाख से अधिक स्टार्टअप्स को मान्यता प्रदान की है।

इस उत्कृष्ट योजना के साथ, भारत ने विश्व अर्थव्यवस्था में अपनी स्थानीयता को सुनिश्चित करने का संकल्प किया है और स्टार्टअप्स को बढ़ावा देने में उनका समर्थन जारी रखने का वादा किया है।”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top